badhte apradh par police adhikari ko patra

आप के शहर में बढ़ते अपराध पर नियंत्रण के लिए पुलिस अधिकारी को पत्र लिखें

आज की इस लेख में हम अपने शहर में हो रहे अपराधों जैसे पैसे लूटना, जुआ खेलना, मारपीट करना, हफ्ता वसूली करना, लड़कियों को छेड़ना इत्यादि के बारे में पुलिस अधिकारी को पत्र कैसे लिखे ये बताएंगे,  जिससे वह इन अपराधों पर जल्द से जल्द कोई कार्यवाही करें ताकि हम सुख चैन से रह सके।

सेवा में,

श्री मान पुलिस अधिकारी जी,

दिल्ली पुलिस,

नई दिल्ली – 110025

विषय: शहर की बिगड़ती कानून व्यवस्था के बारे में पुलिस अधिकारी को पत्र ।

महोदय जी,

इस पत्र की सहायता से मैं आपका ध्यान अपने क्षेत्र पश्चिम विहार में क़ानून व्यवस्था का सरेआम बनाये जा रहे मज़ाक की ओर आकर्षित करना चाहता हूँ| यहाँ कुछ लोग दिन दहाड़े वसूली करते हैं और

यदि कोई भी दुकानदार उन्हें पैसे देने से मना करता है तो वे उसे मारते पीटते हैं और जबरन वसूली करते हैं। दुकानदारों के बीच यह खौफ बढ़ता जा रहा है और शहर में माफिया राज स्थापित होता जा रहा है।

यह लोग बिना किसी कारण राहगीरों को रोककर उनसे मारपीट करते और सामान छीन कर फरार हो जाते। इतना ही नहीं इन लोगों ने आने – जाने वाली पटरियों पर अवैध कब्जा किया हुआ है। शाम होते ही यह लोग जुआ खेलते हैं और शराब पीते हैं , और अपशब्द का प्रयोग करते हुए गाली – गलौज करते रहते हैं।

जिसके कारण शाम होते ही कोई महिला सड़क पर निर्भीक रूप से निकल भी नहीं सकती।

अतः आपसे निवेदन है कि कृपा कर क्षेत्र में बिगड़ती कानून व्यवस्था को सुधरने के लिए कुछ प्रयास किए जाएँ।

धन्यवाद

भवदीय

राजीव सिंह

आगे पढ़े:

आशा है दोस्तो की इस पत्र को पढ़ने के बाद आपकी अपराध पर नियंत्रण के लिए पुलिस अधिकारी को पत्र कैसे लिखे, की समस्या दूर हो चुकी होगी । यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो हमे कमेंट कर के जरूर बताएं और आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें।

अगर आप भविष्य में भी ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करें और साथ के साथ आप हमारे इंस्टाग्राम पेज और  फेसबुक पेज को लाइक करें।

जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे और अगर आपको ऐसे ही किसी पत्र को लिखने में दिक्कत हो रही तो हमे कमेंट करे हम आपकी सहायता जरूर करेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top