kisano ki samasya par sampadak ko patra

किसानो की समस्या पर संपादक को पत्र हिंदी मे

आज का मुद्दा हमारा किसानों के ऊपर है किसानों को रोज क्रय केंद्र पर कई असुविधा का सामना करना पड़ता है किसान हमारे लिए भगवान का स्वरूप है अगर समय रहते हैं इनकी समस्याओं का निदान नहीं किया गया तो बहुत बड़ी समस्या हो सकती है ।

आज की इस लेख में हम किसानों की इन्हीं समस्याओं का विवरण करते हुए समाचार पत्र के संस्थापक को एक पत्र लिखेंगे और बताएंगे कि कैसे क्रय केंद्र पर किसानों के साथ बुरा हो रहा है और उन सभी अधिकारियों का ध्यान इस ओर केंद्रित करेंगे जिससे आने वाला कल किसानों के लिए इससे बेहतर बन सके।

तो आइए जानते हैं की किसानो की समस्या पर संपादक को पत्र हिंदी मे कैसे लिखते है।

सेवा में ,

श्रीमान संपादक महोदय

प्रेम नगर , किशनगंज , नई दिल्ली

विषय : बढ़ते महंगाई पर दैनिक समाचार पत्र के संपादक को पत्र l

महाशय / मान्यवर

सविनय निवेदन यह है कि मैं प्रेम नगर का स्थानीय निवासी हूं । इस पत्र के माध्यम से सरकार का ध्यान किसानों को होने वाली समस्याओं पर केंद्रित करवाना चाहता हूं ।

गेहूं क्रय केंद्र पर होने वाली असुविधा की ओर अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट करना चाहता हूं क्रय केंद्र के कर्मचारी व्यापारी व गेहूं तुरंत तो लेते हैं जबकि वहीं गेहूं अगर किसान लाता है तो उसे दो-तीन दिन रोक दिया जाता है ।

जिससे किसान अपनी खेती सुचारू रूप से नहीं कर पाते दूसरी ओर क्रय केंद्र पर काम करने वाले सफाई कर्मी किसानों का गेहूं 1-1 किलो करके मुफ्त में ले लेते हैं ।

इसी प्रकार तोलने वाले भी एक 1 किलो गेहूं ले लेते हैं क्रय केंद्र पर किसी भी प्रकार का कोई कूपन नहीं दिया जाता जिससे अव्यवस्था होती है व्यापारी और प्रभावी लोग अपना गेहूं तुरंत बेच कर चले जाते हैं ।

जबकि भोले वाले किसानों को अपना गेहूं बेचने के लिए 1-2 दिन रुकना पड़ता है इस संदर्भ में संबंधित अधिकारियों से यह निवेदन है कि किसानों की समस्या की ओर ध्यान देकर उचित व्यवस्था करने का प्रयत्न करें ।

अगर आप इस मामले को अपने अखबार में प्रकाशित करते हैं तो मैं आपका सदेव आभारी रहूंगा ।

धन्यवाद ।
अनमोल शर्मा
स्थानीय वासी ।

नोट: हम यहाँ पे कुछ परिस्थितियों के अनुसार एप्पलीकेशन लिखे है, आप अपने परिस्थिति के अनुसार इस पत्र के प्रारूप का उपयोग कर सकते है।

आशा है दोस्तो की इस पत्र को पढ़ने के बाद आपकी “किसानो की समस्या पर संपादक को पत्र “, की समस्या दूर हो चुकी होगी । यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो हमे कमेंट कर के जरूर बताएं और आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें ।

अगर आप भविष्य में भी ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करें और साथ के साथ आप हमारे इंस्टाग्राम पेज और  फेसबुक पेज को लाइक करें।

जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे और अगर आपको ऐसे ही किसी पत्र को लिखने में दिक्कत हो रही तो हमे कमेंट करे हम आपकी सहायता जरूर करेंगे।

आगे पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top