Maternity Leave Application In Hindi

Maternity Leave Application In Hindi- मातृत्व अवकाश के लिए आवेदन पत्र

मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन इन हिन्दी

आज के अपने इस ब्लॉग में हम ऐसे इंसान के बारे में चर्चा करेंगे जो हमारे जगत की सबसे पूजनीय होती हैं अर्थात माता। आज हम अपने इस ब्लॉग में मेटरनिटी लीव के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें {Maternity Leave Application In Hindi} या मातृत्व अवकाश के लिए पत्र कैसे लिखें टॉपिक पर चर्चा करेंगे और पत्र लिखना भी सीखेंगे।

आज के समय में पुरुष वर्ग के साथ-साथ महिलाएं भी अपने पैर पर खड़ी हैं अर्थात काम करती हैं ,चाहे वह काम किसी कंपनी में हो, किसी संस्थान में हो, स्कूल में हो, हॉस्पिटल में हो, इत्यादि।

इसलिए पुरुष के साथ-साथ महिलाओं को भी अपने बारे में हर चीज का पता होना जरूरी है। महिला चाहे सरकारी संस्थाओं में काम कर रही हो या फिर गैर सरकारी संस्थाओं में काम कर रही हो उसे मातृत्व अवकाश के बारे में जानना बहुत जरूरी  है।

हर महिला के लिए यह जानना आवश्यक है कि सभी सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा महिलाओं को मातृत्व अवकाश प्रदान किया जाता है जिसे मेटरनिटी लीव भी कहा जाता है और जिसकी अवधि लगभग 6 महीने से 2 साल तक की होती है।

यह अवकाश कोई भी महिला तब ले सकती है जब वह मां बनने वाली हो और उसे अपना काम करने में समस्या या बाधाएं उत्पन्न हो रही हैं। तब वह किसी भी कंपनी या फिर किसी भी संस्था में मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन अर्थात मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र जमा करके अवकाश प्राप्त कर सकती है।

इस अवकाश के माध्यम से महिलाओं को अपना तथा गर्भ में पल रहे बच्चे का खास ध्यान देने का समय प्राप्त हो जाता है और साथ ही साथ वह बच्चों के जन्म के बाद भी उनका ख्याल आसानी से रख सकती हैं।

परंतु आज भी कुछ महिलाएं ऐसी हैं जिनको मेटरनिटी लीव लिखना नहीं आता है या फिर वह मैटरनिटी अर्थात मातृत्व अवकाश के बारे में नहीं जानते इसलिए आज के अपने इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे की मेटरनिटी लीव के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें ? तो आइए जानते हैं मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र से संबंधित सभी जानकारियों के बारे में।

Maternity Leave Application In Hindi

मातृत्व अवकाश या मेटरनिटी लीव होता क्या है

 हर महिला को अपने अधिकार जानने चाहिए और अपने अधिकार के लिए सजग भी रहना चाहिए। ऐसे ही अधिकार में एक अधिकार है मेटरनिटी लीव अर्थात मातृत्व अवकाश का जिसके बारे में हर महिला को पता होना चाहिए। यह एक ऐसा अधिकार है जो प्रसूति अर्थात गर्भवती महिलाओं को प्रदान किया जाता है।

वे सभी महिलाएं जो सरकारी संस्थाओं में कार्य करती हैं उन्हें गर्भावस्था के दौरान 6 महीने  से लेकर 2 साल तक का अवकाश प्रदान किया जाता है।

गैर सरकारी संस्थाओं में भी यह अवकाश प्रदान किया जाता है लेकिन कुछ गैर सरकारी संस्थाएं इस अवकाश के दौरान कार्यरत महिलाओं की सैलरी में से कुछ कटौती करते हैं, वही कुछ संस्थाएं अवकाश प्रदान करने के साथ-साथ पूरी की पूरी सैलरी भी देते हैं।

मैटरनिटी लीव कब और कैसे लिया जाता है

 मातृत्व अवकाश गर्भवती और कार्यरत महिलाओं के लिए ही होता है। यदि कोई महिला सरकारी संस्था में या फिर गैर सरकारी संस्था में काम करने वाली है और वह गर्भवती है तो वह अपने प्रसव के 90 दिन पहले या फिर अपनी आवश्यकता के अनुसार यह अवकाश प्राप्त कर सकती हैं।

मातृत्व अवकाश प्राप्त करने के लिए महिलाओं को मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन अर्थात मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र लिखना होता है। इस लीव एप्लीकेशन लिखने के बाद उसे पदाधिकारी या फिर कंपनी / संस्था के उच्च अधिकारी के पास सबमिट करना होगा।

पदाधिकारी द्वारा संपूर्ण जांच करने के बाद ही महिलाओं को अवकाश प्रदान किया जाता है। सरकारी संस्थाओं में मातृत्व अवकाश की अवधि 6 महीने से लेकर 2 साल तक की होती है लेकिन गैर सरकारी संस्थाओं में यह अवधि उस कंपनी के ऊपर निर्भर करती है कि वह कितने दिन का अवकाश प्रदान करता है।

मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन अर्थात मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र लिखने से पूर्व कुछ ध्यान देने योग्य बातें

 महिलाओं द्वारा मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र को लिखने के लिए कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है और निम्न बातों का ध्यान देना भी आवश्यक है जो इस प्रकार हैं….

  • पहले के वर्षों में मातृत्व अवकाश केवल 12 सप्ताह के लिए ही प्रदान किया जाता था लेकिन वर्ष 2017 में मेटरनिटी बेनिफिट अधिनियम द्वारा मातृत्व अवकाश की अवधि को 26 सप्ताह तक बढ़ा दिया गया है।
  • यह लाभ केवल उन महिलाओं के लिए है जो कर्मचारी के रूप में मौजूदा कंपनी चाहे वह कंपनी सरकारी हो या फिर गैर सरकारी में पिछले 1 साल में 100 दिन का काम कर चुकी हों।
  • मैटरनिटी लीव अर्थात मातृत्व अवकाश लेने के लिए सरकारी चिकित्सा द्वारा स्वास्थ्य प्रमाण पत्र जारी करना अनिवार्य होता है।
  • मातृत्व अवकाश के दौरान सभी महिला के राजपत्रित छुट्टियां अर्थात मातृत्व अवकाश में मिली सभी छुट्टियों में रविवार और अन्य सरकारी छुट्टियां भी शामिल होती हैं।
  • जिन महिलाओं के पहले से ही 2 बच्चे हैं या उससे ज्यादा हैं उन महिलाओं के लिए मातृत्व अवकाश केवल 12 सप्ताह का होता है।
  • आवेदन पत्र में लिखा गया हर वाक्य सरल और स्पष्ट होना चाहिए।

मातृत्व अवकाश अर्थात मेटरनिटी लीव के प्रकार

 गर्भवती महिलाओं द्वारा दो प्रकार के मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन लिखे जा सकते हैं जो निम्न प्रकार से हैं –

  • मातृत्व अवकाश का आवेदन पत्र सरकारी कर्मचारी के लिए
  • मातृत्व अवकाश का आवेदन पत्र प्राइवेट कंपनी या गैर सरकारी संस्था के कर्मचारी के लिए

मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र लिखने का तरीका

मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र अर्थात मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन लिखने के दो तरीके हैं जो नीचे दिए गए हैं उन को ध्यानपूर्वक पढ़ें और अपने अनुसार शब्द परिवर्तन करके लिखें।

मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन सरकारी कर्मचारी के लिए

सेवा में,

श्रीमान…..( अधिकारी या पद का नाम )

…………( सरकारी संस्था का नाम )

…………( शहर का नाम या पता )

विषय : मातृत्व अवकाश के संबंध में।

महाशय,

मैं ……..(नाम ) आपको सूचित करना चाहती हुं कि पिछले 8 महीने से मैं गर्भवती हूं और अब मुझे चिकित्सक द्वारा सुझाव दिया गया है कि मुझे मातृत्व अवकाश की आवश्यकता है। मुझे गर्भावस्था और प्रसव संबंधी कोई भी समस्या उत्पन्न ना हो इसलिए यह अवकाश मेरे लिए अति आवश्यक है। मैं कल …….( दिनांक ) से अगले 6 महीने बाद कार्यालय में वापस अपना कार्यभार संभाललूंगी। मेरी अनुपस्थिति में मेरे सहयोगी मेरा कार्यभार संभाल लेंगे।

अतः आपसे सविनय निवेदन है कि मुझे 6 महीने का अवकाश प्रदान करने की कृपा करें। मैं आपकी सहृदय आभारी रहूंगी।

धन्यवाद,

आपकी विश्वसनीय,

( नाम )……………

( पद )……………..

( पता )…………….

( दिनांक )…………

( हस्ताक्षर )…………

मेटरनिटी लीव एप्लीकेशन या मातृत्व अवकाश आवेदन पत्र किसी प्राइवेट कंपनी के या गैर सरकारी संस्था के कर्मचारी के लिए

सेवा में,

श्रीमान…………( संस्था के अधिकारी का नाम या पद )

……………….. ( संस्था या कंपनी का नाम )

……………….. ( संस्था या कंपनी का पता )

विषय : मातृत्व अवकाश के संबंध में।

महोदय,

मैं …………( नाम ) आपको सूचित करना चाहती हूं कि पिछले 8 महीने से मैं गर्भवती हूं और अब चिकित्सक के द्वारा सुझाव दिया गया है कि मुझे मातृत्व अवकाश की अति आवश्यकता है। गर्भावस्था के दौरान तथा प्रसव संबंधी कोई भी समस्या उत्पन्न ना हो इसलिए मुझे यह अवकाश लेना अति आवश्यक है। मैं कल……… ( दिनांक ) से अगले 6 महीने के बाद ही कार्यालय में अपना कार्यभार वापस संभाल लूंगी। मेरी अनुपस्थिति में मेरे सहयोगी महत्वपूर्ण कार्य को कर सकते हैं।

अतः आपसे अनुरोध है कि मुझे है महीने की अवधी देने की कृपा करें। मैं आपकी आभारी रहूंगी।

धन्यवाद,

आपकी विश्वसनीय,

………………( नाम )

………………( पद )

………………(  पता )

……………..( दिनांक )

……………( हस्ताक्षर )

नोट : आप अपनी जरूरत के अनुसार इन पत्रों को अपने हिसाब से संशोधित या बदलाव कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:

अंतिम शब्द

 हम आशा करते हैं कि आपने हमारा यह ब्लॉग तथा इस ब्लॉग में दिए गए आवेदन पत्र के सैंपल को अच्छे से पढ़ा है और समझा है। अगर आपको हमारा या ब्लॉक पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें तथा आपके पास कोई प्रश्न है तो नीचे कमेंट बॉक्स में अपना प्रश्न जरूर लिखें हम आपके प्रश्नों का हल ढूंढने या देने की कोशिश जरूर करेंगे……।

हमारे इस ब्लॉग पर आने के लिए आपका धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top