PM cares for children yojna kya hai पूरी जानकारी हिंदी में

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को PM Care से दिया जाएगा 10 लाख का फंड

नमस्कार दोस्तों आज इस पोस्ट में हम आपको प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए दी जाने वाली सहायता के बारे में बताने वाले है। इसमें क्या क्या  वाले है इस बात को जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक पढ़े और शेयर करे।

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने एक बड़ा ऐलान किया है. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना (PM Cares For Children) योजना के तहत मदद दी जाएगी. ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में स्कॉलरशिप और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपए का फंड मिलेगा. इस बात की जानकारी पीएम कार्यलय (PMO) द्वारा दी गई है

https://twitter.com/narendramodi/status/1398630525435265032?s=20

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए बड़ा ऐलान :

 18 साल की उम्र तक PM केयर फंड से हर महीने मदद ; मुफ्त पढ़ाई और 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा 

 PM केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम कोरोना की वजह से अपने माता – पिता को खोने वाले बच्चों को मिलेगा .. 

फ्री एज्यूकेशन और 5 लाख का मुफ्त बीमा

 23 साल का होने पर 10 लाख रुपए -10 साल से कम उम्र के बच्चों का नजदीकी स्कूल में एडमिशन , फीस और किताबों का खर्च • हायर एजुकेशन के लिए लोन और स्कॉलरशिप , व्याज PM केयर फंड से दिया जाएगा • आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपये का हेल्थ बीमा कवर शेयर कोरोना की वजह से अपने माता – पिता को खो चुके बच्चों के लिए केंद्र सरकार ने PM केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम का ऐलान किया है । ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र तक हर महीने आर्थिक मदद दी जाएगी । 23 साल की उम्र पूरी होने पर उन्हें PM केयर फंड से 10 लाख रुपये एकमुश्त मिलेंगे ।

सरकार ने ऐसे बच्चों की पढ़ाई के लिए भी दो घोषणाएं की हैं । उनकी पढ़ाई का खर्च सरकार उठाएगी और हायर  एजुकेशन के लिए अगर लोन लिया है तो उसमें राहत दी जाएगी । लोन का ब्याज सरकार PM केयर फंड से देगी । साथ ही आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा । इसका प्रीमियम PM केयर फंड से ही दिया जाएगा ।

PM मोदी ने मीटिंग की कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों की मदद लिए उठाए जाने वाले कदमों पर विचार करने के लिए शनिवार को एक अहम बैठक की गई । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी अध्यक्षता की । उन्होंने कहा कि बच्चे देश के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं । हम उनकी मदद और सुरक्षा के लिए सब कुछ करेंगे । एक समाज के रूप में यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने बच्चों की देखभाल करें ।

Facebook क्यों बन्द हो रहा है भारत मे पूरी जानकारी

Black Fungus क्या है? कैसे करता है हमला, किस तरह करें बचाव

योजना की खास बातें

बच्चे के नाम फिक्स्ड डिपॉजिट • PM केयर फंड से ऐसे हर बच्चे के लिए एक कोष बनाया जाएगा । इसमें 10 लाख रुपए जमा किए जाएंगे । इसके जरिए 18 साल की उम्र होने तक बच्चे हर महीने एक तय राशि मदद के तौर पर मिलेगी । 

23 साल की उम्र होने पर उसे यह पूरी रकम एक साथ दे दीजाएगी । स्कूली पढ़ाई • 10 साल से कम उम्र के बच्चों को नजदीकी केंद्रीय विद्यालय या प्राइवेट स्कूल में डे स्कॉलर के रूप में एडमिशन दिया जाएगा । • अगर बच्चे का एडमिशन किसी निजी स्कूल में होता है तो PM केयर्स फंड से राइट टु एजुकेशन के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी ।

उनकी स्कूल ड्रेस , किताबों और नोटबुक पर होने वाले खर्च के लिए भी भुगतान किया जाएगा । . हायर एजुकेशन के लिए मदद बच्चे को मौजूदा एजुकेशन लोन नॉर्स के मुताबिक , भारत में प्रोफेशनल कोर्स या हायर एजुकेशन के लिए लोन लेने में मदद दी जाएगी । इस लोन का ब्याज भी PM केयर्स से दिया जाएगा ।

इसके विकल्प के तौर पर ऐसे बच्चों को केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं के तहत ग्रेजुएशन या प्रोफेशनल कोर्स के लिए कोर्स फीस या ट्यूशन फीस के बराबर स्कॉलरशिप दी जाएगी । जो बच्चे मौजूदा स्कॉलरशिप स्कीम के तहत एलिजिबल नहीं हैं , उनके लिए PM केयर्स से उन्हें एक जैसी .स्कॉलरशिप मिलेगी ।

हेल्थ इंश्योरेंस सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना ( PM – JAY ) के तहत लाभार्थी माना जाएगा । उन्हें 5 लाख रुपये का हेल्थ बीमा कवर मिलेगा । • 18 साल की उम्र तक इन बच्चों की प्रीमियम राशि का भुगतान PM केयर्स जाएगा ।

11-18 वर्ष के बच्चों को मिलेगी ये सुविधा 

बता दें जिन बच्चों कि उम्र 11 से 18 साल के बीच है, उनके लिए भी पीएम ने अच्छी सुविधा निकाली है. बच्चे को उनके रेजिडेंशियल स्कूल (Residential School) में जैसे की सैनिक स्कूल (military school), नवोदय विद्यालय (Navodaya Vidyalaya) जैसे स्कूल में एडमिशन मिल जाएगा. वहीं अगर घर का कोई बड़ा दादा-दादी या परिवार का कोई भी बच्चे की देखभाल करता है, तो उसे नजदीकी स्कूल में या नजदीकी  केंद्रीय विद्यालय में डे स्कॉलर के छात्र के रूप में एडमिशन दिया जाएगा.

sikhindia.in के ब्लॉग पर आने के लिए और इस ब्लॉग के माध्यम से मुझे सपोर्ट करने के लिए मैं आप सभी का आभारी रहूँगा और आप सब का धन्यवाद करता हु | अगर आप को पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट सेक्शन के माध्यम से आप मुझसे संपर्क कर सकते है |दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी हो तो या इस से सम्बंधित किसी भी सवाल के लिए आप हमसे हमारे फेसबुक पेज पर contact कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *