How to become a civil engineer in hindi

How to become a civil engineer in hindi

civil engineer in hindi

civil engineer jobs,How to become a civil engineer in hindi civil engineer salary,

civil engineer in hindi,

job for civil engineer, civil engineer salary in india, govt job for civil engineer civil engineering, civil engineering jobs, civil engineering govt jobs, civil engineering government jobs, what is civil engineering, civil engineering salary in india

SIKHINDIA की वेबसाइट पर में आप सभी का तहे दिल से स्वागत करता हूँ। आशा करता हूँ की हमारे द्वारा दी गयी सम्पूर्ण जानकारी आपको फायदेमंद साबित हुयी होगी। इस पोस्ट में हम आपको सिविल इंजीनियर कैसे बने ,कौन कौन सी पढ़ाई करे ,कौन कौन से कोर्स करे ,गोवेर्मेंट और प्राइवेट सेक्टर में क्या क्या स्कोप मिलने वाले है सम्पूर्ण जानकारी आपको पढ़ने और जानने को आपको मिलेगी।  अगर आपका सपना भी है सिविल इंजीनियर बनना तो इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

सिविल इंजीनियरिंग को इंजीनियरिंग की सबसे पुरानी शाखाओं में से एक माना जाता है। civil engineer एक राष्ट्र के बुनियादी ढांचे के निर्माण में केंद्रीय व्यक्ति होते हैं। सिविल इंजीनियरिंग की खूबी यह है कि यह आपको अपने सपनों को पंख लगाने का मौका देती है। प्रत्येक परियोजना चुनौतियों के अपने सेट के साथ आती है जिसके लिए बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए सावधानीपूर्वक योजना, रचनात्मकता, अनुकूलन क्षमता और समस्या समाधान कौशल की आवश्यकता होती है।

civil engineer हमेशा मांग में रहेंगे क्योंकि बुनियादी ढांचे के विकास यानी इमारतों, गगनचुंबी इमारतों, सड़कों, राजमार्गों, बांधों, पुलों, जल उपचार संयंत्रों, सीवेज उपचार संयंत्रों आदि का निर्माण, उनकी विशेषज्ञता और प्रतिभा पर भरोसा करते हैं।

civil engineer बनने के लिए योग्यता 

दोस्तों आज के समय में कॉम्पिटिशन लेवल बहुत ही बढ़ गया है चाहे किसी भी क्षेत्र की बात करें। हर साल लाखों विधार्थी इंजीनियरिंग का डिप्लोमा करते है। कुछ विधार्थियों को अपने क्षेत्र चुन ने में पेरेंट्स  परिवार सहायता करते है लेकिन  छात्रों को 12 वि पास करने तक ये समझ में नहीं आता की वो आगे जाकर कोनसा डिग्री कोर्स करें और करियर के लिए कौनसा विकल्प चुने जिस से उन्हें काफी मुस्किलो का सामना करना पड़ता है।

अगर आप civil engineerर बनन चाहते हो या आपके पेरेंट्स  इंजीनियर बनाना  उस से पहले आप इस पोस्ट  को पूरा पढ़ें ताकि आपको अपने करियर को चुन ने में  सहयता हो और आप अपने करियर को एक सही दिशा में ले जा सके। आईये जानते है सिविल इंजीनियर और जूनियर इंजीनियर कैसे बनते है और क्या क्या करियर विकल्प हो सकते है पूरी जानकारी।

civil engineer बनने के लिए आपको साइंस से 12 वि पास करनी होगी। 

जूनियर सिविल इंजीनियर बनने के लिए 10TH पास होना अनिवार्य है।

civil engineer कैसे बनें 

  •  12वी पास करें  – सिविल इंजीनियर बनने के लिए सबसे पहले आपको साइंस सब्जेक्ट से 12वी पास करनी होगी। एंट्रेस एग्जाम में बैठने के लिए आपके  12वी में कम से कम 60% मार्क्स होना अनिवार्य है।  जिसमे फिजिक्स,केमिस्ट्री,मैथ  से 60% मार्क्स अनिवार्य है। इंजीनियरिंग में एडमिशन के लिए आपको IIT और AIEEE जैसी एंट्रेस एग्जाम देनी होगी जिसमे बैठंने के लिए आपको 12TH 60% से पास होना अनिवार्य है।
  • इसके अलावा आप 10वी पास कर के पॉलिटेक्निक कर सकते हो जिस से जूनियर सिविल इंजीनियर बन सकते हो। यह 3 साल का डिप्लोमा कोर्स होता है जिसे करके आप 10वी के बाद सीधे कॉलेज कर सकते हो।  
  • 12वी पास करने के बाद आपको एंट्रेस एग्जाम पास करनी होगी जिसे पास करने पर आपको रैंक के आधार पर कॉलेज मिलेगी। अच्छी कॉलेज में एडमिशन के लिए आपको एंट्रेस एग्जाम अच्छे मार्क्स से पास करनी होगी।
  •   एंट्रेस एग्जाम क्लियर करने के बाद आपको B.TECH   कोर्स करना होता है जो 4  साल में पूरा होता है। इस कोर्स में आपके इंजीनियरिंग के साथ साथ ग्रेजुएशन की डिग्री भी हो जाती है. जिसमे आपको 4 साल तक इंजीनियरिंग के बारें में पढ़ाया जाता है। अब आपको इन 4 सालो में अच्छे से पढ़ना होता है और ग्रेजुएशन में अच्छे मार्क्स लाने  होते है जिस से की आप आगे जाकर एक अच्छे इंजीनियर बन सकते हो. अगर आप आगे जाकर इस क्षेत्र में अपना नाम बनाना चाहते हो तो आपको इन 4 सालो में जमकर पढ़ाई करनी होगी। 
  • अब आपको इंजीनियरिंग की डिग्री करने के बाद किसी भी कंपनी में नौकरी मिल सकती है लेकिन आपको सबसे पहले वर्क एक्सपीरियन्स की जरुरत पड़ने वाली है। एक्सपेरिएंस के लिए आपको इंटरशिप करनी होगी जिस से आपको जॉब मिलने में आसानी होगी।

job for civil engineer

दोस्तों हर साल गोवेर्मेंट सिविल इंजीनियर के चार से पांच हजार पदों पर भर्ती निकलती है। जिस,में आप अप्लाई कर सकते हो इसके अलावा एक सिविल इंजीनियर को गोवेर्मेंट, प्राइवेट और कई अन्य कम्पनी में काम करने के अवसर मिलते है।

Private Sector की Industry, Research एवं Educational Institute आदि में काम करने का अवसर प्राप्त होता है. कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में तेजी से बढ़ते कार्यों को देखते हुए इंजीनियरिंग की डिमांड बहुत तेजी से बढ़ रही है। सिविल इंजीनियर का कार्य बिल्डिंग  निर्माण ,मॉल ,होटल,रेस्टोरेंट निर्माण और इनके मैंटेनेंस ,रखरखाव और कंस्ट्रक्शन के कार्य की जिम्मेदरी होती है।

सिविल इंजीनियरिंग में कौन कौन से कोर्स होते है ?

  • PHD  in Civil Engineering,
  • M.E in Civil Engineering,
  • Post Graduate in Civil Engineering,
  • B.Tech in Civil Engineering
  • Diploma in Civil Engineering
  • Graduation in Civil Engineering
  • Certificate course in building design
  • Certificate course in Construction Supervisor
  • B.E in Civil Engineering

salary of civil engineer in india

सिविल इंजीनियर की तनखाह गोवेर्मेंट सेक्टर में केंद्र और राज्य सर्कार के द्वारा अलग अलग निर्धारित होती है और प्राइवेट क्षेत्र में आपको सुरुवात में 20000 से 25000 और इसके बाद आपके काम और अनुभव को देख कर आपकी सैलरी 35000 से 40000 तक मिल जाएगी। किसी भी कंपनी में लम्बे समय तक कार्य करने पर आप की सैलरी 50000  या इस से अधिक तक महीने की हो सकती है.

job for civil engineer (सरकारी क्षेत्र में सिविल इंजीनियरिंग कैरियर)

सरकारी क्षेत्र में काम करने से न केवल स्थिरता और अच्छा वेतन मिलता है बल्कि नौकरी की सुरक्षा भी मिलती है। भारतीय इंजीनियरिंग सेवा मांग वाले क्षेत्र में से एक है क्योंकि यह आईएएस अधिकारियों और सिविल सेवकों को लगभग समान लाभ प्रदान करता है। सरकार में सिविल इंजीनियरों के लिए वेतनमान। नौकरियां INR 45,000 से INR 50,000 तक शुरू होती हैं।

सिविल इंजीनियरिंग शाखा की बहुमुखी प्रतिभा इस तथ्य में मौजूद है कि इसमें सभी के लिए पर्याप्त अवसर हैं। सिविल इंजीनियरों के लिए सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में समान अवसर उपलब्ध हैं। सरकारी क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्र सिविल इंजीनियरों के लिए रोजगार प्रदान करते हैं:

नगर निगम, जल बोर्ड, दिल्ली विकास प्राधिकरण, नई दिल्ली नगर निगम, मेट्रो रेल, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन, दिल्ली राज्य औद्योगिक विकास निगम, लोक निर्माण विभाग, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग, सीमा सड़क संगठन, सैन्य इंजीनियरिंग सेवाएं, भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण, भारतीय वायु सेना, रेलवे, सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग, सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग, राष्ट्रीय जल विद्युत ऊर्जा निगम, राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम, तेल और प्राकृतिक गैस कॉर्पोरेशन लिमिटेड, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन, राइट्स, डीआरडीओ, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, संगठनों के भवन और निर्माण विभाग और सूची अंतहीन है।

सरकारी क्षेत्र में प्रोफाइल में सहायक अभियंता, सहायक कार्यकारी अभियंता, कार्यकारी अभियंता, मुख्य अभियंता आदि शामिल हैं, और निजी क्षेत्र में प्रशिक्षु अभियंता से मुख्य कार्यकारी अधिकारी तक शुरू होता है।

इस प्रकार आप सिविल इंजीनियरिंग करके अपने करियर को अच्छा बना सकते हो और बेहतर जिंदगी जी सकते हो.

sikhindia.in के ब्लॉग पर आने के लिए और इस ब्लॉग के माध्यम से मुझे सपोर्ट करने के लिए मैं आप सभी का आभारी रहूँगा और आप सब का धन्यवाद करता हु | अगर आप को पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट सेक्शन के माध्यम से आप मुझसे संपर्क कर सकते है |दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी हो तो या इस से सम्बंधित किसी भी सवाल के लिए आप हमसे हमारे फेसबुक पेज पर contact कर सकते है 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *