corona virus kya hai?कोरोना वायरस से बचने के 3 BEST घरेलु उपाय

corona virus par essay

नमस्कार दोस्तों

sikhindia की वेबसाइट पर आप सभी का है। आज की पोस्ट में हम कोरोना वायरस [corona virus] पर चर्चा करेंगे।

कोरोना वायरस [corona virus]एक संक्रमित और भयानक बीमारी है जो चीन के वुहान शहर से शुरू हुई थी और आज पूरे विश्व में इसने भयानक रूप ले लिया है। कोरोना से बचाव ही इसकी दवा है। आज के समय में कोरोना ने भारत व अन्य देशों में बुरी तरह से अपना प्रभाव छोड़ा है।आइये जानते है इस बीमारी के बारे मे विस्तार से

कोरोना वायरस क्या है? what is corona virus

कोरोना एक वायरस जनित रोग है। जो की संक्रमण से फैलती है। उसने पिछले कुछ ही समय में महामारी का रूप ले लिया है । इस रोग के शुरुआती लक्षण खांसी और जुकाम है जो धीरे-धीरे मनुष्य के फेफड़ों को संक्रमित कर देते हैं और सांस लेने में परेशानी होने लगती है जिससे कि मनुष्य की मौत भी हो सकती है

इस बीमारी की शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई और धीरे-धीरे पूरे विश्व को संक्रमित कर दिया।

इस से संक्रमित व्यक्ति को पहले खांसी जुकाम की शिकायत होती है और धीरे-धीरे सांस में रुकावट होने लगती है। यह बीमारी श्वसन तंत्र को इतना बुरी तरीके से प्रभावित करती है कि कई बार रोगी की मौत भी हो जाती है। कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं। कोरोना वायरस अब चीन में उतनी तीव्र गति से नहीं फ़ैल रहा है जितना दुनिया के अन्य देशों में फैल रहा है। कोविड 19 नाम का यह वायरस अब तक 70 से ज़्यादा देशों में फैल चुका है। कोरोना के संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके।

यह भी पढ़ें :RRB GROUP D में कैसे जाएँ

40+ रक्षाबंधन के नारे स्लोगन Raksha Bandhan Nare Slogan in Hindi

* क्या हैं इस बीमारी के लक्षण ?

कोविड-19 / corona virus  में पहले बुखार होता है। इसके बाद सूखी खांसी होती है और फिर एक हफ़्ते बाद सांस लेने में परेशानी होने लगती है।

इन लक्षणों का हमेशा मतलब यह नहीं है कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण है। कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में निमोनिया, सांस लेने में बहुत ज्यादा परेशानी, किडनी फेल होना और यहां तक कि मौत भी हो सकती है। बुजुर्ग या जिन लोगों को पहले से अस्थमा, मधुमेह या हार्ट की बीमारी है उनके मामले में खतरा गंभीर हो सकता है। जुकाम और फ्लू में के वायरस में भी इसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं।

* कोरोना वायरस[corona virus] का संक्रमण हो जाए तब?

  • इस समय कोरोना वायरस [corona virus]का कोई इलाज नहीं है लेकिन इसमें बीमारी के लक्षण कम होने वाली दवाइयां दी जा सकती हैं।
  • जब तक आप ठीक न हो जाएं, तब तक आप दूसरों से अलग रहें।
  • कोरोना वायरस के इलाज के लिए वैक्सीन विकसित करने पर काम चल रहा है।
  • इस साल के अंत तक इंसानों पर इसका परीक्षण कर लिया जाएगा।
  • कुछ अस्पताल एंटीवायरल दवा का भी परीक्षण कर रहे हैं।

* क्या हैं इससे बचाव के उपाय?

  • स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।
  • इनके मुताबिक हाथों को साबुन से धोना चाहिए।
  • अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।
  • खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें।
  • जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों, उनसे दूरी बनाकर रखें।
  • अंडे और मांस के सेवन से बचें।
  • जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें।

* मास्क कौन और कैसे पहनें?

  • अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको मास्क की जरूरत नहीं है।
  • अगर आप किसी कोरोना वायरस [corona virus] से संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो आपको मास्क पहनना होगा।
  • जिन लोगों को बुखार, कफ या सांस में तकलीफ की शिकायत है, उन्हें मास्क पहनना चाहिए और तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

* मास्क पहनने का तरीका :-

  • मास्क पर सामने से हाथ नहीं लगाना चाहिए।
  • अगर हाथ लग जाए तो तुरंत हाथ धोना चाहिए।
  • मास्क को ऐसे पहनना चाहिए कि आपकी नाक, मुंह और दाढ़ी का हिस्सा उससे ढंका रहे।
  • मास्क उतारते वक्त भी मास्क की लास्टिक या फीता पकड़कर निकालना चाहिए, मास्क नहीं छूना चाहिए।
  • हर रोज मास्क बदल दिया जाना चाहिए।

* कोरोना का ख़तरा कैसा करें कम, पढ़ें उपाय

  • कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं।
  • अपने हाथ अच्छी तरह धोएं।
  • खांसते या छींकते वक़्त अपना मुंह ढंक लें।
  • हाथ साफ नहीं हो तो आंखों, नाक और मुंह को छूने बचें।

कोरोना [corona ] का संक्रमण फैलने से कैसे रोकें?

सार्वजनिक वाहन जैसे बस, ट्रेन, ऑटो या टैक्सी से यात्रा न करें।

घर में मेहमान न बुलाएं।

घर का सामान किसी और से मंगाए।

ऑफ़िस, स्कूल या सार्वजनिक जगहों पर न जाएं।

अगर आप और भी लोगों के साथ रह रहे हैं, तो ज़्यादा सतर्कता बरतें।

अलग कमरे में रहें और साझा रसोई व बाथरूम को लगातार साफ करें।

14 दिनों तक ऐसा करते रहें ताकि संक्रमण का खतरा कम हो सके।

अगर आप संक्रमित इलाके से आए हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हैं तो आपको अकेले रहने की सलाह दी जा सकती है। अत: घर पर रहें।

 

उपसंहार : लगभग 18 साल पहले सार्स वायरस से भी ऐसा ही खतरा बना था। 2002-03 में सार्स की वजह से पूरी दुनिया में 700 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। पूरी दुनिया में हजारों लोग इससे संक्रमित हुए थे। इसका असर आर्थिक गतिविधियों पर भी पड़ा था। कोरोना वायरस के बारे में अभी तक इस तरह के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि कोरोना वायरस पार्सल, या खाने के जरिए फैलता है। कोरोना वायरस जैसे वायरस शरीर के बाहर बहुत ज्यादा समय तक जिंदा नहीं रह सकते।

 

कोरोना वायरस को लेकर लोगों में एक अलग ही बेचैनी देखने को मिली है। मेडिकल स्टोर्स में मास्क और सेनेटाइजर की कमी हो गई है, क्योंकि लोग तेजी से इन्हें खरीदने के लिए दौड़ रहे हैं।

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन, पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड और नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) से प्राप्त सूचना के आधार पर हम आपको कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बता रहे हैं। एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्क्रीनिंग हो या फिर लैब में लोगों की जांच, सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए कई तरह की तैयारी की है। इसके अलावा किसी भी तरह की अफवाह से बचने, खुद की सुरक्षा के लिए कुछ निर्देश जारी किए हैं जिससे कि कोरोना वायरस से निपटा जा सकता है।और इसके अलावा आप हमसे फेसबुक पर भी संपर्क कर सकते है। 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *